Holi 2021

0
589
Holi 2021 | Holi png Images | imranker

रंग वाली Holi 29 मार्च, सोमवार के दिन मनाई जाएगी. Hindu कैलेंडर के अनुसार हर वर्ष Holi का Festival, चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि को Celebrate जाता है. ये ही देखा गया हैं कि किसी भी वर्ष में जब प्रतिपदा तिथि 2 दिनों तक पड़ती है तो, इस condition में Holi का festival 1st day को ही मनाए जाने का विधान है. 2021 में Holi का festival India  में 29 मार्च, Monday के दिन है। 28 मार्च (Sunday) को होलिका दहन होगा।

Holika दहन के दिन अग्नि जलाई जाती जिसमें सभी तरह की बुराई,Negativity को जलाया जाता है। अगले दिन, अपने हम अपने Relatives को color लगाकर Festival की शुभकामनाएं देते हैं साथ इस festival का मजा लेते हैं। Road पर color बिखरा दिखाई देता है और लोग अपने Friends और Relatives को Festival की बधाई देते हैं।

Holika दहन मुहूर्त :-

     Holika दहन : 28/3/ 2021, Sunday

  • Color की Holi खेलने का दिन : 29/3/ 2021, Monday
  • Holika दहन  : शाम 6.37- रात 8.56
  • पूर्णिमा तिथि शुरू : 28/3/2021 सुबह 3.27 बजे से
  • पूर्णिमा तिथि समाप्त : 29/3/2021 रात 12.17 बजे
  • 29/3/2021 भद्रा पूंछ – 10:13 से 11:16
  • 29/3/2021 भद्रा मुख – 11:16 से 13:00

Holi की पूजा:-

Holi की पूजा Life में सुख समृद्धि लाती है. रोग से भी मुक्ति दिलाती है. इस दिन Loard विष्णु ने अपने भक्त प्रहलाद को Holika से बचाया था. भगवान की लीला से Holika खुद जलकर मर गई.

Holi से जुड़ी पौराणिक Stories:- 

पौराणिक Sories के According, प्रहलाद जन्म से ही ब्रह्मज्ञानी थे और anytime भगवत भक्ति में concentrate रहते थे, उन्हें 9 Type की भक्ति प्राप्त थी। भक्ति मार्ग के इस Step सोपान को achieve कर लेने के बाद प्राणी परमात्मा को Achieve कर लेता है। प्रहलाद भी इसी Step पर पहुंच गये थे जिसका उनके Father हिरण्यकश्यपु विरोध करते थे But, जब प्रहलाद को नारायण भक्ति से विमुख करने के उनके सभी उपाय Fail होने लगे तो, उन्होंने प्रह्लाद को फाल्गुन शुक्ल पक्ष अष्टमी को बंदी बना लिया और मृत्यु हेतु तरह तरह की यातनायें देने लगे, But प्रहलाद विचलित नहीं हुए। every day प्रहलाद को मृत्यु देने के अनेकों उपाय किये जाने लगे But भगवत भक्ति में लीन होने के कारण प्रहलाद all time जीवित बच जाते।

सात दिनों के बाद आठवे दिन हिरण्यकश्यपु की बेचैनी देख बहन Holika जिसे ब्रह्मा द्वारा आग से न जलने का वरदान था. Holika ने भतीजे प्रहलाद को अपनी गोद में लेकर अग्नि में भस्म करने का offer रखा जिसे हिरण्यकश्यपु ने Accept कर लिया। Result स्वरूप Holika जैसे ही प्रहलाद को गोद में लेकर जलती आग में बैठीं तो, वे जलने लगीं और प्रहलाद जीवित बच गए Because उनके लिए अग्नि शांत हो गए थे।

Holi में रखे सावधानी (Holi precautions) :-

1.Holi रंग का Festival है पर सावधानी से मनाया जाना जरुरी है. Color मिलावटी होने के कारण बोहोत सारे नुकसान होते है इसलिए गुलाल से Holi मानना ही ठीक होता है.

2. होली पर नशीले पदार्थो का मिलना भी बोहोत आम है इसलिए इस तरह की चीजों से बचना बहुत जरुरी है.

3.गलत Color के Use से आँखों की बीमारी होने का खतरा भी बड़ रहा है.इसलिए Cemical मिश्रित वाले Color के प्रयोग से बचे.

4.घर से बाहर बनी कोई भी वस्तु खाने से पहले सोचें मिलावट का खतरा Festival में और अधिक बड़ जाता है.

5.बोहोत सावधानी से  Color लगाये, अगर कोई नाही चाहे तो उसे जबरजस्ती ना करे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here