बहुत बार हम सभी ने सुना है के पुलिस कस्टडी मैं बहुत मारती है |

बहुत बार हम सभी ने सुना है के पुलिस कस्टडी मैं बहुत मारती है |

वो मार मार कर गुनाह कबूल करते हैं | क्या पुलिस ऐसा क्र सकती है ?

बहुत लोग इस वजह से कंफ्यूज रहते हैं की ये किस नियम के तहत ऐसा होता है

क्या पुलिस वालों के पास इतनी पावर होती है की वो किसी को मार सकें |

तो आपको भारत के संविधान के इस नियम को जानना चाहिए |

तो दोस्तों हम आपको बता दें की पुलिस के पास टॉर्चर (मार पीट) करने की कोई पावर नहीं होती है |

पुलिस गिरफ्तार कर सकती है , पूछताछ कर सकती है, और इन्वेस्टीगेशन कर सकती है बस |

अगर पुलिस किसी व्यक्ति को ऐसे प्रताड़ित करती है, टॉर्चर करती है कुछ उगलवाने के लिए |

तो ये दंडनीय अपराध हो सेक्शन ३३० के तहत, पुलिस को ऐसा करने पर ७ साल की सजा हो सकती है |