१७ सितम्बर के शो का सुभारम्भ मंदिर मैं प्रार्थना और नागराज तक्षक से होता है |

प्रथा चाहती है उसकी बेटी शेषनागिन न बने |

और उसे अपनी बेटी के सपने मैं न आने को कहती है |

वह बोलता है के आप भी नागिन नहीं बनाना चाहत्ती थी परन्तु फिर भी बन गयी न |

उसने बोला के अगर आपकी बेटी यहां आयी तो वह शेषनागिन ज़रूर बनेगी |

प्रथा कहती के उसने भगवान् शिव से प्राथना की है और वो उसे नहीं मना करेंगे |

तक्षक बोलता है आप जो चाहे वो करलो जो होना है वो होकर रहेगा उसे कोई नहीं टाल सकता

प्रथा जीत जो बोलती है के वो लेट आयेगी , उसके बाद प्राथना की किसी से टक्कर होती है |

और उसे सारे डाक्यूमेंट्स नीचे गिर जाते है | यहां उसे एह्शाश होता है प्राथना से मिलने का |